जिला बाल कल्याण परिषद द्वारा जिले में लगभग दो दर्जन गांवों में चल रहे हैं सिलाई केंद्र।
July 11th, 2019 | Post by :- | 9 Views

मेवात (सद्दाम हुसैन)     उपायुक्त के मार्गदर्शन में जिला बाल कल्याण परिषद द्वारा जिले में लगभग दो दर्जन गांवों में कौशल विकास सिलाई केंद्रों चल रहे। इन सिलाई केन्द्रो पर बच्चों को सिलाई केंद्रों पर बच्चों को सिलाई सिखाने वाली अध्यापिकाओ के द्वारा बच्चें को कौशल सीखने के नए-नए तरीके बता कर उन्हें प्रशिक्षित किया जाता है। ताकि बच्चें पूरा प्रशिक्षण लेकर अपनी प्रतिभा को उजागर कर सकें और अपने जीवन को स्वावलम्बी बना सके।

जिला बाल कल्याण अधिकारी कमलेश शास्त्री ने बताया कि कौशल विकास केंद्र बच्चों में छिपे हूनर को निकालने के लिए विभाग द्वारा चलाए जा रहे हैं । जिससे कढ़ाई -बुनाई व सिलाई में बच्चे अपने अंदर छिपे हूनर को बाहर लाकर अपने आप को बेहतर साबित कर सके। उन्होंनें कहा कि लड़कियां इन कौशल विकास केंद्रों पर सिलाई और कटाई सीखकर अपने आप को आर्थिक रूप से भी मजबूत कर सकती हैं। जिससे अपना ही नहीं बल्कि अपने ससुराल के घर को भी आर्थिक रूप से मजबूर कर सकती हैं।

उन्होंने बताया कि एक सेंटर पर कम से कम 25 छात्राओं की संख्या होनी चाहिए, अगर किसी सेंटर पर बच्चों की संख्या कम है तो उसे सुचारू रूप से चलाने के लिए बच्चों की संख्या पूरी की जाएगी। उन्होंने बच्चों को भी संबोधित करते हुए कहा कि 6 महीने के अपने कोर्स में ज्यादा से ज्यादा समय देकर सेंटर पर अपने हुनर से अपने आप को बेहतर साबित करें। उन्होंने कहा कि जिले के गांव में चल रहे कौशल विकास केंद्रो पर सभी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। मंगलवार को जिला बाल कल्याण अधिाकरी ने जिले के घासेड़ा, इंद्री, उदाका, आटा , नमक फिरोजपुर लगभग दर्जन भर गांव में चल रहे कौशल विकास केंद्रों का निरीक्षण किया तथा आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।