सोलन ! विश्व की सबसे ऊंची भगवान हनुमान जी की प्रतिमा बनकर हुई तैयार
April 15th, 2019 | Post by :- | 10 Views

सोलन का लाडो गांव देश-दुनिया में अपनी पहचान बनाने जा रहा है। यहां पर स्थित मानव भारती यूनिवर्सिटी में 156 फीट ऊंची दुनिया की सबसे ऊंची हनुमान जी की मूर्ती बनकर पूरी तरह तैयार हो गई है। विश्व की यह सबसे ऊंची मूर्ती है। इसका नाम लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में दर्ज होगा। मानव भारती विश्वविद्यालय ने इसके लिए सारे दस्तावेज तैयार करके भेज दिए हैं। लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड की टीम कभी भी इसकी चैकिंग के लिए पहुंच सकती है। विश्व में त्रिनिदाद और टोबैगो द्वीप में 85 फीट ऊंची हनुमान जी की मूर्ती है। देश में आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा में 135 फीट ऊंची मूर्ति बनी हुई है जबकि प्रदेश में हिमाचल के जाखू में हनुमानजी की 108 फीट ऊंची मू्र्ती स्थापित है। यह मूर्ती 156 फीट ऊंची है। 20 फीट इसकी नींव है। हनुमान जी की मूर्ती में 21 फीट ऊंचा चेहरा है। इसके अलावा 19 फीट की बाजू और 26 फीट लंबे पांव है। इस मूर्ति को चार साल में बनाकर पूरी तरह तैयार किया गया है। मूर्ती बनाने में इस्तेमाल हुआ 2 हजार टन सरिया, सीमेंट और बाकी सामान लगा है। मूर्ती में लगी पाइपें नुकसान करने वाले पानी को बाहर निकालेंगी। इस मूर्ती पर भूकंप का भी कोई असर नहीं होगा। मानव भारती चेरिटेबल ट्रस्ट के चेयरमैन डा. राजकुमार राणा ने बताया कि 21 जून को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर इस मूर्ति का अनावरण करवाने की तैयारी है। इस दिन केंद्रीय मंत्रियों को भी बुलाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मानव भारती चैरिटेबल ट्रस्ट ने वर्ष 2014 में मू्र्ती के निर्माण का कार्य शुरू किया गया था। इसका काम मातूराम आर्ट सेंटर दिल्ली को दिया था। इस प्रतिमा को मूर्तिकार पद्मश्री नरेश कुमार ने बनाया है। मानव भारती यूनिवर्सिटी के चेयरमैन डा. राजकुमार राणा हनुमान के भक्त है। यूनिवर्सिटी कैंपस में उन्होंने हनुमान जी का मंदिर भी बनवाया है। सोलन में बनने वाली यह मूर्ति विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति बनेगी। इस मूर्ती के बन जाने के बाद मानव भारती यूनिवर्सिटी धार्मिक पर्यटन का एक नया डेस्टिनेशन बनेगा और स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा। मूर्ती के दर्शन के लिए यूनिवर्सिटी के अलग से रास्ता बनाया है, ताकि पर्यटक यहां पर आसानी से दर्शन कर सके। भारती चेरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक ने मूर्ति बनवाई है।